New Haryanvi Shayari – हरयाणवी शायरी

Haryanvi Shayari

ये दुनिया वाले भी बडे अजीब है…

दर्द आँखो से निकले तो ‘कायर’ कहते हैं…

और बातों से निकले तो ‘शायर’ कहते है


Haryanvi Shayari

दर्द बयां करना है तो शायरी से कीजिये………..
जनाब…..
लोगों के पास वक़्त कहाँ एहसासों को सुनने का…


Haryanvi Shayari

कर कर कै बहाने रोवैगी जब याद तन्नै मेरी आवैगी
फोटो धर कै सिराहणै सोवैगी जब याद तन्नै मेरी आवैगी


हरयाणवी शायरी

सोच के गुजरैगी तेरे दिल पै

जब कोए जब चाह्वैगा तन्नै मेरै ज्यु और छोड़ कै चल्या जागा तन्नै तेरै ज्युं


हरयाणवी शायरी

कभी जो फुर्सत मिले, तो मुड़कर देख लेना मुझे एक दफ़ा..!

तेरी नजरो से घायल होने की चाहत मुझे आज भी है ..!!


हरयाणवी शायरी

नींद में भी गिरते हैं मेरी आँख से आंसू
जब भी तुम ख्वाबों में मेरा हाथ छोड़ देती हो.


हरयाणवी शायरी

उसकी चाहत का मैं ओर के सबूत द्यूं
उसने लाई थी बिंदी वा भी मेरी आख्यां में देख कै


Haryanvi Shayari

पहले मुहब्बत का नशा था मन्नै
दिल ईसा टूट्या के नशे तै मुहब्बत होगी


Haryanvi Shayari

कदे दुख हो तो हामनै याद कर लिये
दुख गिरवी धर कै खुशी उधार दिया करां हाम


हरयाणवी शायरी

आज फेर तेरी याद नै खोश लिया होश-ओ-हवास,

बावळा हो ज्यांगा रै मैं तो.. जै न्युए चालता रह्या तो


हरयाणवी शायरी

गुरुर मत करै अपणे हुस्न पै,

एक दिन मैं भी राख हो ज्यांगा..एक दिन तू भी राख हो ज्यागी

8 Comments

  1. Rahul saini October 13, 2016
    • sumit hooda March 18, 2017
      • prem May 26, 2017
    • dost May 14, 2017
  2. Govind February 5, 2017
  3. sohan lal February 21, 2017
  4. Piyush Turan July 15, 2017
  5. vijaypal July 20, 2017

Leave a Reply